विगत सप्ताह में खराब विद्युत आपूर्ति पर प्रबन्ध निदेशक द्वारा काफी नाराजगी व्यक्त की ।

0
19

IEP Dehradun

बेहतर विद्युत आपूर्ति प्रदान करने के उददेष्य से प्रबन्ध निदेशक उपाकालि, बी0सी0के0 मिश्रा द्वारा निदेशक (परिचालन/परियोजना), गढ़वाल क्षेत्र के मुख्य अभियन्ता (वितरण) एवं देहरादून क्षेत्र के अधीक्षण अभियन्ता व अधिषासी अभियन्ता के साथ आपातकालीन बैठक आहुत की गई।

विगत सप्ताह में खराब विद्युत आपूर्ति पर प्रबन्ध निदेशक द्वारा काफी नाराजगी व्यक्त की गई एवं समस्त अधिषासी अभियन्ताओं को सांय 06.00 बजे से रात्री 10.00 बजे तक उपसंस्थानों का निरीक्षण कर बाधित रहित विद्युत आपूर्ति उपलब्ध कराना सुनिष्चित करायेंगे। जैसा कि विगत एक सप्ताह में अत्यधिक वर्शा होने से 132 के0वी0 बिन्दाल-ऋशिकेष लाइन के टावर क्षतिग्रस्त होने, नदी के कटाव के कारण 220/132/33 के0वी0 झाझरा उपसंस्थान से निकलने वाली 33 के0वी0 लाइनों के क्षतिग्रस्त होने एवं अन्य स्थानों पर भी लाइनों के खम्बे क्षतिग्रस्त होने से विद्युत आपूर्ति बाधित हुई है।

क्षेत्रीय अधिकारियों द्वारा अवगत कराया गया कि उपभोक्ताओं की संख्या बढ़ने के साथ साथ विद्युत मांग में वृद्धि हो रही है जिसके कारण 33/11 के0वी0 उपसंस्थानों, 11/0.4 के0वी0 वितरण परिवर्तकों, 33 एवं 11 के0वी0 लाइनों की अतिभारिता होने से भी विद्युत आपूर्ति बाधित हो रही है। नये उपसंस्थानों के निर्माण हेतु भूमि उपलब्ध नहीं हो पा रही है। ब्राहमणवाला क्षेत्र में ओवर लोडिंग की समस्या के निजात हेतु 33/11 के0वी0 उपसंस्थान आई0टी0आई0 प्रस्तावित किया गया था परन्तु भूमि उपलब्ध न होने के कारण यह उपसंस्थान का निर्माण नहीं हो पाया है। क्षेत्रीय अधिकारियों द्वारा अवगत कराया गया कि विगत काफी समय से आई0टी0आई0 माजरा में एक कोने में भूमि की मांग लगातार आई0टी0आई0 प्रधानाचार्य से की जा रही है। यदि आई0टी0आई0 माजरा में भूमि उपलब्ध हो जताी है तो उपसंस्थान बनने से ब्राहमणवाला एवं आस-पास के क्षेत्र की विद्युत आपूर्ति में व्यापक सुधार आयेगा। हरिद्वार बाईपास रोड़, सेलाकुई एवं सारा औद्योगिक क्षेत्र के पास भी भूमि की आवष्यकता है।

प्रबन्ध निदेशक द्वारा समस्त अधिकारियों को नदी के कटाव के कारण क्षतिग्रस्त हो रही विद्युत लाइनों के बचाव हेतु पोलों के रिवेटमेंट के विशय में ठोस कार्ययोजना तैयार कर कार्यवाही करने हेतु निर्देषित किया गया।

विस्तृत चर्चा के दौरान पिटकुल के 132 के0वी0 उपसंस्थानों की क्षमता वृद्धि तथा  132 के0वी0 उपसंस्थान आराघर एवं आईआईपी के षीघ्र निर्माण की आवष्यकता पाई गई। झाझरा एवं ढ़करानी से आने वाली 33 के0वी0 लाइनें बरसात में क्षतिग्रस्त हो जाती हैं जिसके कारण सेलाकुई क्षेत्र की विद्युत आपूर्ति बाधित होती है इसके निदान हेतु 220 के0वी0 सेलाकुई उपसंस्थान के निर्माण हेतु लगातार पिटकुल से अनुरोध किया जा रहा है क्योंकि सेलाकुई औद्योगिक क्षेत्र के बीच में इस उपसंस्थान के निर्माण होने से सेलाकुई औद्योगिक क्षेत्र की विद्युत आपूर्ति में सुधार आयेगा। इस पर प्रबन्ध निदेषक द्वारा पिटकुल के अधिकारियों के साथ षीघ्र बैठक कर संयुक्त रूप से कार्ययोजना तैयार कर कार्यवाही की जायेगी।

मुख्य अभियन्ता एवं मीडिया प्रभारी ए0के0 सिंह  ने कहा कि विद्युत उपभोक्ता अपने विद्युत बिल का भुगतान उत्तराखण्ड पावर कारपोरेषन लि0 के वेबसाईट ूूूण्नचबसण्वतह पर आॅन लाईन भी कर सकते हंैं तथा विद्युत सम्बन्धी किसी भी जानकारी/कठिनाईयों के लिये उपाकालि के कस्टमर केअर टोल फ्री न0 1800-419-0405 अथवा 1912 पर सम्पर्क कर सकते हंै।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here